कचड़ा चुनने वाले को बंद कार्टून में मिला नवजात का शव

धनबाद

जब किसी नवजात की किलकारियां गूजँती है तो पूरा घर खुशियों से भर जाता है। हर किसी के चेहरे में एक अलग सी खुशियों की चमक होती है। आज समाज में लड़कियां जहाँ आसमानो कि बुलंदियों को छू रही है वही हमारे समाज में आज भी कुछ लोग ऐसे है जो लड़के और लड़कियों में भेद करते है। आज भी लड़कियों को कहीं न कही बोझ समझ कर या तो गर्भ में ही मार दिया जाता है या फिर बच्ची का जन्म हो भी गया हो तो या तो वो किसी कचड़े के ढेर में पड़ी नज़र आती है या किसी फिर किसी अनाथ आश्रम के दरवाजे में

कार्टून में मिला बच्ची का शव
धनबाद शहर में कचड़ा चुनने वाले को एक डब्बे में नवजात बच्ची का शव मिला है। उसने बताया कि वह कचड़ा चुन रहा था उसी वक़्त उसे यह डब्बा मिला। उसे डब्बा भारी लगा तो उसने अपने साथ वह कार्टून रख लिया और थोड़ी देर में उसे खोलकर देखा तो पाया उसमे कपड़ा था ,कपड़े को जब हटाकर देखा तो तो वो हैरान रह गया क्योंकि उसमे एक नवजात बच्ची का शव पड़ा हुआ था।

मौके पर पहुंची पुलिस

इस बात कि जानकारी उसने वह के कुछ लोगो को दी जिसके बाद भीड़ लगनी शुरू हो गयी। पुलिस को सूचना दी गयी जिसके बाद पुलिस वह पहुंचकर कचड़ा चुनने वाले से बातचीत कि तो उसके बताया कि यह डब्बा उसने बिजली ऑफिस के पास से उठाया था लेकिन जब उसने बिहारी लाल चौधरी प्रतिष्ठान के पास पहुंचने के बाद उसे खोल कर देखा तो उसके भी होश उड़ गए। हालांकि पुलिस कचड़ा चुनने वाले के बातों पर पूरी तरह से भरोसा नहीं कर रही है। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में कर लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.