जेबीवीएनएल ने नहीं किया समय पे भुगतान, इन सात जिलों में 12 घंटे बिजली कटेगी

फ्रेश बुलेटिन , राँची

झारखण्ड राज्य में डीवीसी की ओर से सात जिलों में बिजली की कटौती शुरू की गयी है। चार जनवरी से 50 फीसदी बिजली कटौती की। डीवीसी के 18 दिसंबर 2020 को ही अल्टीमेटम दिया था लेकिन इसके बावजूद भी ऊर्जा विभाग और जेबीवीएनएल ने इसके प्रति कोई गंभीरता नहीं दिखाई। डीवीसी के पीआरओ अभय भयंकर का कहना है कि डीवीसी अपने अल्टीमेटम के अनुसार बिजली कटौती कर रही है। दस जनवरी के बाद 60 प्रतिशत बिजली की कटौती होगी।
डीवीसी के पीआरओ का यह भी कहना है की जेबीवीएनएल ने रिक्वेस्ट लेटर भेजा है जिसमे सिर्फ बिल्जी को सामन्य रखने की बात की गयी है लेकिन उसमे बकाया राशि को देने की चर्चा नहीं कि गयी है। डीवीसी को 150 करोड़ रूपये लेने थे लेकिन जेबीवीएनएल अभी तक ने 50 करोड़ ही दिए है।

डीवीसी का जेबीवीएनल के पास 5000 करोड़ का बकाया है। डीवीसी सात जिलों में 300 मेगा वाट ही बिजली देगी जबकि इससे पहले 600 मेगावाट देती थी।
इस बकाया को लेकर बैठक भी किया गया था जिसमे केंद्रीय ऊर्जा सचिव भी शामिल हुए थे। इसके बाद भी जब भुगतान नहीं हुआ तो केंद्र सरकार की ओर से राज्य सरकार के फंड से 1400 करोड़ रूपये की कटौती की गयी थी।

ये है वो सात जिले
इन सात जिलों में गिरिडीह, बोकारो, धनबाद, रामगढ़, चतरा, कोडरमा, देवघर शामिल हैं। बकाया भुगतान का मसला सुलझाने के लिए ऊर्जा विभाग में 14 मार्च को उच्च स्तरीय बैठक हुई थी, जिसमे दोनों कम्पनियो ने आपस में बात किया, बात-चीत होने के बावजूद जेबीवीएनएल ने सही समय में भुगतान नहीं किया। बता दें कि इसके पहले पिछले साल फरवरी और मार्च के बीच लगभग दो सप्ताह बिजली कटौती की गयी थी। इस दौरान डीवीसी ने 18 से 20 घंटे तक बिजली कटौती की थी।

ट्रेंडिंग न्यूज

Leave a Reply

Your email address will not be published.